Sukirti

Just another weblog

40 Posts

245 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12075 postid : 8

मेरे पापा

Posted On: 13 Sep, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सब कहते है आप दूर बैठे हो सितारों में कही
पर मुझे हर वक्त महसूस होते हो यही कही

जब भी मै पलकों को बंद करती हु कभी
आँखों में आप की सूरत उभर आती है तभी

बचपन में कभी प्यार से बालो का सहलाना
कभी अपने हाथो से मुझे खाना खिलाना

सावन में वो मेहदे के पत्ते तोड़ कर लाना
फिर लाड से मेरे हाथो में मेहदी लगवाना

हर छोटी छोटी बात का रखते थे कितना ध्यान
सच आपने पुरे किये मेरे सभी अरमान

दिल करता है बस एक बार नजर कही आओ
अपनी स्नेह भरी आवाज से मुझे फिर गुड़िया बुलाओ

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ankitmishra7171 के द्वारा
October 16, 2012

Simply awesome lines written from the core of the heart…….one more fan got added into your fan list :)

    Alka के द्वारा
    October 17, 2012

    thanks ankit to read and appreciate my poem .


topic of the week



latest from jagran