Sukirti

Just another weblog

40 Posts

245 comments

Alka


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

सिद्ध मंदिर और अब्यवस्थाएं …

Posted On: 15 Oct, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Social Issues में

0 Comment

हर एक दिन ….

Posted On: 14 Aug, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

2 Comments

ना जाने क्यों …..

Posted On: 8 Jul, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

0 Comment

तेरे सिवा माँ ….

Posted On: 15 May, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

4 Comments

अभी कुछ देर लगेगी …

Posted On: 7 Mar, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

4 Comments

ये आँखें ….

Posted On: 7 Feb, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

7 Comments

कल श्राद्ध था ….

Posted On: 1 Oct, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

6 Comments

याद आई तू प्यारी माँ…

Posted On: 10 May, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

5 Comments

दिल की ख्वाहिश है…

Posted On: 19 Dec, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya कविता मस्ती मालगाड़ी में

2 Comments

एक ख्याल …….

Posted On: 4 Nov, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

4 Comments

Page 2 of 4«1234»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

आदरणीया अलका जी ! सादर अभिनन्दन और समाज के लिये एक बेहद प्रेरक रचना की प्रस्तुति हेतु हार्दिक बधाई ! आज सुबह एक महिला आश्रम में आई थीं ! उन्होंने बताया कि दो साल पहले एक नवजात बच्ची को लोग फेंकने ले जा रहे थे, उसने काफी मिन्नत कर उनसे उस अबोध और मासूम बच्ची को ले लिया और उसे बहुत अच्छे ढंग से पालपोस रही हैं ! उनके बड़े सयुंक्त परिवार की वो बच्ची अब लाडली बन चुकी है ! ख़ुशी से मेरी आँखे भर आईं ! हमारे समाज में जबतक ऐसे दैविक प्रवृतियों से परिपूर्ण लोग हैं तबतक ऐसी अभागिन कुछ बच्चियों की रक्षा तो होती ही रहेगी, जिन्हें आसुरी प्रवृति वाले लोग फेंकने या मारने के बारे में सोचते हैं ! अच्छी प्रस्तुति हेतु सादर आभार !

के द्वारा: sadguruji sadguruji

के द्वारा: Noopur Noopur

के द्वारा: DEEPTI SAXENA DEEPTI SAXENA

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

के द्वारा: Alka Alka

के द्वारा: Madan Mohan saxena Madan Mohan saxena

के द्वारा: aman kumar aman kumar

के द्वारा: Alka Alka

के द्वारा: Alka Alka

के द्वारा: Alka Alka




latest from jagran